Geeta Updesh Quotes | Geeta Saar| Geeta Gyan images| गीता उपदेश

परित्राणाय साधूनाम् विनाशाय च दुष्कृताम्। धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे युगे । (चतुर्थ अध्याय, श्लोक 8, श्रीमद्भगवद्गीता) ~भावार्थ: सज्जन पुरुषों के कल्याण के लिए और दुष्कर्मियों के विनाश के लिए.. और धर्म की स्थापना के लिए मैं युगों-युगों से प्रत्येक युग में जन्म लेता आया हूं Geeta Updesh Quotes : Hindi भगवान श्री कृष्ण कहते हैं कि … Read more

150+Bhagwat Geeta Gyan in Hindi गीता सार इन हिंदी

Geeta Gyan in Hindi Geeta Gyan in Hindi; वृक्ष कभी इस बात पर व्यथित नहीं होता कि उसने कितने पुष्प खो दिए, वह सदैव नए फूलों के सृजन में व्यस्त रहता है । जीवन में कितना कुछ खो गया, इस पीड़ा को भूलकर, क्या नया कर सकते हैं, इसी में जीवन की सफलता है। -श्रीमद्भगवद्गीता … Read more